Total Pageviews

Monday, 9 February 2015

66. If Only Someone had Stopped (Published in Woman's Era December (Second) 2014 Issue)

If Only Someone had Stopped...


I was driving down the Ahmedabad-Vadodara highway on a summer evening. It was getting late and I wanted to reach Vadodara before it became dark. There was the sound of a blast and the car suddenly swerved to the left and then to the right with a jerk, but I manoeuvred the steering wheel dexterously to bring it to a screeching halt avoiding a major accident.

I was stunned at this unexpected development and the narrow escape all three of us had. I sat there like a statue for a few seconds trying to recover from the shock thinking of what all could have happened with the front tyre of the car bursting at such a high speed.

Still keeping my foot firmly on the brake pedal, I looked at my co-passengers, my teenaged son Rahul and his friend Vikrant and heaved a sigh of relief to see that both were safe. Too tired after the engineering entrance examination they had taken at Ahmedabad, both were dozing in the car.

Shaken out of their nap with the sudden jolts, they looked confused. Mercifully, despite their stiff resistance, I had forced them to wear the seat belts before starting the journey and that had saved them from any possible injuries caused by the sudden turn of events.

As I cautiously moved the car to the roadside, both the teenagers loosened up the seat belts and hopped out of the car. They quickly opened the boot. One of them took out the stepney while the other picked up the jack and the handle. They confidently moved towards the front wheel that had flattened to replace it. I smiled as I saw these youngsters taking on the responsibility and slowly stepped out of the car only to find that the stepney was equally deflated. Their faces fell and so did mine. We were in the midst of nowhere and the sun had already set. The dark shadows of the tall trees on either side of the deserted highway had begun to loom large looking frightening. I had no clue as to how we would tackle the situation.

As a feeling of helplessness was setting in, I heard a voice calling out to us. We looked around but there was no one.  
“Look up. Look up,” I heard someone saying.
All of us looked up simultaneously to find a man leaning over from the flyover right above where we stood, waving out frantically, and trying to draw our attention. The man spoke loudly, “What happened? Both tyres flat? Bring them up here. There is a puncture repair shop nearby. You can have it fixed up there.”

Before I could react and say anything, the boys picked up one tyre each and started rolling them upwards on the kuchha way leading to the flyover. In no time, they were out of sight.

As the time started ticking away, I became nervous. Almost an hour had passed and the boys had been away without any information. I was getting tense. I decided to call them up and dialled my son’s cell phone to check up on their whereabouts. The phone on the next seat started flashing, “Mum calling”   Oh... So he had left his cell phone here on the car seat.

Why is youth so impatient? It is pitch dark and the area is not familiar to me at all. I cannot leave the car here and go looking for them. Even if I go, where will I look for them? I was now talking to myself loudly. Should I ring up my husband? But he must have already boarded the flight by now. He was to go to Delhi to attend a meeting and that is why I had driven down the boys to Ahmedabad all by myself.

Tick tack…tick tack… As time was passing, I was getting too nervous and my heartbeat was increasing. Why did I myself not go with them? One boy could have stayed back in the car. But they acted so fast. They did not even give me time to react. I could not even see that man’s face clearly. Who was he? Why was he trying to be so helpful? Could he have some ulterior motive? Oh God! I hope the children are safe I crossed my fingers. Worried to my bones, my anxious mind was racing in all directions, all kind of negative thoughts flooding my mind about the well-being and security of the children. My emotions were shifting from anxiety to worry to anger to fear at a fast pace. 

If they were getting late, they could have at least called me up from somewhere. I picked up the phone to contact police but stopped. Looking at my watch again, I decided to wait for 10 minutes more.

I must have looked at the watch at least 10 times in the next five minutes. As my desperation was mounting, I noticed the strong beams of a big car slowing down just behind mine. Who is that, I tried to figure out as I could figure out a few people seated in the vehicle. Having read about so many incidents of the roadside robberies and waylaying, I promptly locked the car from inside and rolled the glasses up wondering what this new problem was. My heart was beating fast with anxiety.

And then, I saw what my eyes had been longing to see for the last one hour. Both the boys jumped out of the car and took the tyres out from its luggage boot. Seeing the boys safe and sound, I came out of the car. Meanwhile, the driver of the big SUV also stepped out. He was a smart young man of about thirty years. He too started helping the boys in fixing up the wheel. I was breathing easy now.

“Thanks a lot for all your help young man. Without you, we would have been doomed today,” I said.
“No problem, ma’am. It is my pleasure,” the stranger replied politely in immaculate English.
“If I am not too inquisitive, what were you doing up there? How come you spotted us from that flyover at this time of the evening in this deserted place?” my curiosity was increasing.
“It is a long story, ma’am,” he sighed and paused before he started, “Four years ago, I was also driving down at the same place with my wife. We were returning from our honeymoon. The time was also the same, 6.30pm to be precise, when my car met with an accident and we were badly injured, she much more than me. As she lay here in a pool of blood, on the verge of losing her consciousness, I tried to stop every single vehicle passing by to get some help but nobody stopped. People are self-centred. She bled to death at this very spot.”

His eyes lowered as if he was searching for his wife on the roadside but continued to speak, “After some time, I sat down on this verge and was about to faint when a good Samaritan saw me, stopped and took me to the hospital. Ultimately, I survived despite three broken bones and excessive bleeding after remaining in the hospital for about three months.”

He became silent as if searching for some words but continued, “Since then I come to this place every year on that day and spend the entire evening looking down from the flyover. Invariably, I find someone in need of help. Helping people in difficulty gives me a lot of satisfaction. My wife did not get help from anyone on that fateful evening. Only if somebody had stopped, she could have been alive today. But this is destiny. Now by standing there and finding someone who I can help gives me a feeling that I have done something for her.”

Sharing this, he slowly turned, wiped his eyes, and moved towards his car while I stood there speechless not knowing what to say.

****



Wednesday, 22 October 2014

65. मेघदूत (स्व. श्रीमती सरला शर्मा की पुस्तक "कालिदास कथासार" से साभार )


मेघदूत 
(स्व. श्रीमती सरला शर्मा की पुस्तक "कालिदास कथासार" से साभार )


पूर्व मेघ 




यक्षराज कुबेर ने अपनी राजधानी अलकापुरी में एक यक्ष को प्रतिदिन मानसरोवर से स्वर्णकमल लाने हेतु नियुक्त किया था। परन्तु यक्ष अपनी पत्नी के प्रेम में इतना उन्मादित था कि उसने अपने कार्य में एक दिन शिथिलता कर दी और समय पर पुष्प नहीं पहुँचा पाया। इस उद्दण्डता पर क्रोधित होकर कुबेर ने उसे एक वर्ष  के लिए देश से निकाल दिया और कहा, "जिस पत्नी के प्रेम में अंधे होकर तुमने यह गलती की है, उस से तुम अब एक वर्ष तक नहीं मिल पाओगे।"

दण्ड सुनकर यक्ष के जीवन का सम्पूर्ण उत्साह समाप्त हो गया और वह दण्ड की अवधि व्यापन हेतु दुखी मन से रामगिरि आश्रम में चला गया। वहाँ माता जानकी के स्नान से पवित्र हुई बावलियाँ और सरोवर थे। आश्रम में घनी छाया प्रदान करने वाले विशाल वृक्ष भी थे। पर फिर भी यक्ष को पत्नी-वियोग सताता रहा और इस विरह में वह सूख कर काँटा हो गया। उसके आभूषण भी ढीले हो-हो कर उसके बदन से गिरने लगे। पत्नी के बिना एक दिन भी न रह पाने वाले उस यक्ष ने कई महीने रोते और विलाप करते किसी भांति काट लिये और जैसे-तैसे ग्रीष्म ऋतु समाप्त हुई।

आषाढ़ मास के प्रथम दिन उसने जब बादलों से लिपटी पर्वतों की चोटियाँ देखी, तो कुबेर के उस सेवक को अपनी पत्नी की बहुत याद आयी और वह अपने आंसू रोक नहीं पाया। उसका विरही मन अपनी पत्नी के लिए व्याकुल होने लगा। वह सोचने लगा कि आषाढ़ समाप्त होते ही सावन आ जायेगा और उस समय मेरी प्रिय पत्नी अपने आप को कैसे संभाल पायेगी। क्यों न मैं इन मेघों द्वारा अपना कुशल सन्देश अपनी प्रिय पत्नी को भेज दूँ?       
     
यक्ष ने तुरंत ही कुटज के पुष्पों से मेघों की पूजा की और उनका स्वागत किया। यक्ष को अपने तन-मन की सुध न थी; वह यह भी नहीं सोच पाया कि मेघ उसका सन्देश लेकर कैसे जायेंगे। वह मेघों के समक्ष गिड़गिड़ाने लगा और बोला, "हे मेघ, तुमने पुष्कर और आर्वतक मेघों के उच्च कुल में जन्म लिया है। तुम इंद्र के दूत हो। तुम संसार को ठंडक देते हो।  हे मेघ, तुम मेरा सन्देश कृपया मेरी प्रिय पत्नी तक पहुंचा दो। तुम अलकापुरी नामक यक्षों की बस्ती में जाना जहाँ शिव जी की सुन्दर मूर्ति भी है।  हे मेघ, तुम सब स्थानों पर पहुँच सकते हो तो मेरी पतिव्रता पत्नी तक भी अवश्य पहुँच जाओगे। मंद- मंद पवन तुम्हे आगे बढ़ा रही है। चातक पक्षी भी बोल रहा है। अभी बगुले भी आकाश में पंक्ति बांधे आते होंगे। तुम्हारी गर्जना सुन राजहंस भी कैलाश पर्वत तक तुम्हारे साथ उड़ते  चले जायेंगे। हे मेघ,  जिस पर्वत पर तुम लिपटे हो उस पर  भगवान राम चन्द्र जी के पैरों की छाप पड़ी है। अच्छा पहले मैं तुम्हे मार्ग समझा दूँ फिर सन्देश बताऊँगा।      
     
देखो जब मार्ग में तुम थक जाओ तो पर्वत के शिखरों पर विश्राम कर लेना। जब तुम में जल  घट जाये तो झरनों से पानी ले लेना। देखो सामने इन्द्र-धनुष चमक रहा है। इसे धारण कर तुम्हारी श्यामल देह श्री कृष्ण जी के समान प्रतीत होगी और मार्ग में सिद्धों की भोली- भाली स्त्रियाँ आँखें फाड़-फाड़ कर तुम्हे देखेंगी। 

हे मेघतुम उत्तर दिशा की ओर घूम जाना। वहाँ कृषक पत्नियाँ  तुम पर आस लगाये बैठी होंगी। वहाँ से माल देश के खेतों पर बरस कर तुम पश्चिम दिशा की ओर मुड़ जाना।  इसके पश्चात तुम उत्तर को जाना। अब तुम आम्रकूट पर्वत पहुँच जाओगे। जब तुम उसकी आग बुझाओगे  तो वह भी तुम्हे आश्रय देगा क्योंकि यदि सच्चे मन से किसी का उपकार करो तो वह भी तुम्हारा आदर ही करता  है। 

यहाँ से आगे बढ़ोगे तो विंध्याचल के पठार पर पहुँचोगे। वहां तुम्हें रेवा नदी दिखेगी। रेवा नदी से तुम अपने में जल भर लेना और भारी-भरकम होकर ही आगे बढ़ना क्योंकि खाली हाथ आने वाले का कोई स्वागत नहीं करता। यदि तुम भरपूर हो तो सब तुम्हारा आदर करेंगे। इस प्रकार मार्ग में तुम बिना रुके ही चले जाना।

हे मेघ, अब तुम दशार्ण देश के पास पहुँच जाओगे।  वहाँ  तुम्हें उपवन, गाँव और मन्दिर दिखाई देंगे। वहां के वन काले जामुनों से लदे मिलेंगे। कुछ दिनों के लिए वहाँ हंस भी आये हुए होंगे। दशार्ण देश की राजधानी विदिशा पहुँच कर तुम वेत्रवती (बेतवा) नदी का मीठा जल पीना। वहाँ से तुम्हे यह ज्ञात हो जायेगा कि वहां के नागरिक यौवन का कितना रस लेते हैं। वहाँ अपनी थकावट को मिटा कर, जुही की कलियों को सींच कर और मालिनों से मित्रता कर तुम उत्तर की ओर चले जाना। हालाँकि उज्जयिनी वाला मार्ग कुछ टेढ़ा पड़ेगा, परन्तु वहाँ के राज-भवनों को अवश्य देखना। वहाँ पर चंचल चितवन वाली  स्त्रियों पर तुम रीझ जाओगे। उज्जयिनी की ओर जाते हुए निर्विन्ध्या नदी मिलेगी जो अत्यन्त मनमोहक है, परन्तु  तुम्हारे विछोह में पतली हो गयी है और आस-पास के पीले पत्तों के कारण पीली भी पड़ गयी है। अतः उसमे जल वर्षा कर उसे अवश्य भर देना। 

फिर अवन्ति देश पहुँच कर तुम उस विशाल नगरी  उज्जयिनी पहुँच जाना। वह नगरी ऐसी लगती है मानो पुण्यात्मा लोग स्वर्ग का कोई चमकीला भाग पृथ्वी पर उतार लाये हों। उस नगरी में मतवाले सारसों की मीठी बोली और खिले हुए कमल के फूलों की सुगंध होगी। शरीर को सुहाने वाली क्षिप्रा नदी की वायु स्त्रियों की थकावट दूर कर देती है। उज्जयिनी के बाज़ारों में जहाँ तुम्हे करोड़ों मोतियों की मालाएं दिखेंगीं, वहीं लाखों करोड़ों सिप्पियां भी रखी  मिलेंगी। साथ ही कहीं नीलम बिछे दिखेंगे। उन्हें देख कर लगता है कि सारे समुद्र के रत्न यहीं आ गये हैं।   

       
उज्जयिनी के लोग एक कथा सुनाते मिलेंगे कि वहाँ वत्स देश के राजा ने उज्जयिनी के राजा प्रद्योत की कन्या वासवदत्ता का हरण किया था। यहीं उनका ताड़ वृक्षों का उपवन था। यहीं नीलगिरि नामक हाथी मदोन्मत्त होकर इधर-उधर घूमता रहता था।

वहाँ झरोखों से अगर का धुआं निकल रहा होगा और पालतू मोर नाच रहे होंगे। वहाँ तुम अपनी थकावट दूर कर लेना। वहाँ  से तुम चण्डी के पति महाकाल  के मन्दिर  की ओर जाना। वहाँ शिव जी के गण अत्यन्त  आदर से तुम्हारी ओर  देखेंगे क्योंकि तुम शिव जी के कण्ठ समान नीले हो। वहीं तुम गंधवती नदी भी देखोगे जो पुरी के पास है और दक्षिणी समुद्र के निकट विन्ध्यपाद से निकलती है। इसका जल अत्यन्त सुगन्धित होता है।

 हे मेघ, तुम महाकाल के मंदिर में संध्या होने से पूर्व ही पहुँच जाना और सूर्यास्त तक वहीं ठहरना। जब महादेव जी की आरती होने लगे तो तुम भी गर्जना करना। इस प्रकार तुम्हें अपनी मन्द -मन्द गर्जना का पूरा फल मिल जायेगा। संध्या को नृत्य करती नर्तकियों के घुँघरू बज रहे होंगे। चँवर ढुलाते हुए जिनके हाथों में कँगन चमक रहे होंगे, उन स्त्रियों पर जब तुम्हारी ठण्डी-ठण्डी पानी की बून्दें पडेंगीं, वो अपनी प्रेम भरी नज़रें तुम पर डालेंगीं।
  

संध्या के उपरान्त जब महाकाल ताण्डव नृत्य करने लगें तो  तुम वृक्षों पर छा जाना। ऐसा करने से शिव जी के ह्रदय में जो हाथी की त्वचा ओढ़ने की इच्छा होगी वह भी पूरी हो जायेगी और पार्वती जी डर जायेंगी। बाद में तुम्हें  पहचान कर उनका डर दूर हो जायेगा। वे शिव जी में तुम्हारी असीम भक्ति को देखती रह जायेंगी। वहाँ की स्त्रियाँ  जब अपने प्रेमियों से मिलने हेतु निकलेंगीं, तब तुम बिजली चमका कर उन्हें राह दिखाना, गरजना बरसना नहीं। नहीं तो वे डर जायेंगीं।  प्रातः काल होते ही तुम वहाँ से चल देना।  उस समय तुम सूर्य को मत ढकना क्योंकि वह कमल पर पड़ी ओस को पोंछने आयेंगे।   

हे मेघ, तुम्हारे तन की परछाई तुम्हे चम्बल नदी के जल में अवश्य दिखाई देगी। उसमें तैरती उज्ज्वल मछलियों को देखना और  समझना कि वे तुम्हारी ओर अपनी चंचल प्रेम विभोर चितवन चला रही हैं। उनका निरादर न करना। 

वहाँ से चल कर तुम देवगिरि पर्वत की ओर जाओगे जहाँ तुम चम्बल नदी से एकत्रित किया जल बरसा दोगे। वहाँ धरती की गंध चारों ओर फैल जायेगी। उसी देवगिरि पर्वत पर स्कन्द भगवान निवास करते हैं। तुम अपना जल बरसा कर उन्हें स्नान करा देना। स्कन्द भगवान कोई साधारण देवता नहीं हैं। देवराज इन्द्र की सेना बचाने के लिए शिव जी ने जो  अपना तेज अग्नि में डाल कर एकत्रित किया था, कुमार स्कन्द उसी  तेज से उत्पन्न हुए हैं। तुम्हारी गर्जना सुन कर कार्तिकेय का मयूर भी नाचने लगेगा।

स्कन्द भगवान की पूजा करके जब तुम आगे बढ़ोगे, तब तुम्हें सिद्ध लोग और हाथों में वीणा लिए उनकी पत्नियाँ मिलेंगें परन्तु भीगने के भय से वे तुमसे दूर-दूर रहेंगें। तब तुम चर्मण्वती (चम्बल) नदी  का आदर करना। यह नदी राजा रन्तिदेव की कीर्ति बन कर पृथ्वी पर बह रही है।  इसे पार करके तुम दशपुर की ओर बढ़ जाना। वहाँ से चलकर ब्रह्मावर्त देश पर छाया करते हुए  तुम कुरुक्षेत्र जाना जो आज तक कौरवों-पाँडवों के घरेलू युद्ध के कारण विश्व में बदनाम है और जहाँ अर्जुन ने अपने शत्रुओं पर अनगिनत बाण बरसाये थे। कौरवों और पाण्डवों को बराबर प्रेम करने वाले बलराम जिस सरस्वती नदी का जल पीते थे उसे यदि तुम भी पी लोगे तो बाहर से श्याम होते हुए भी तुम्हारा मन उज्जवल हो जायेगा। 

कुरुक्षेत्र से चल कर तुम कनखल पहुँच जाना जो हरिद्वार के निकट बहुत महत्वपूर्ण तीर्थ स्थान है। कनखल में तुम्हें हिमालय से उतरी हुयी गंगा जी मिलेंगीं, जिन्होंने सीढ़ी बन कर सगर के पुत्रों को स्वर्ग पहुँचा दिया। वहाँ पहुँच कर तुम अपना पिछला भाग ऊपर उठा कर और आगे का भाग नीचे कर जल पीना। 

वहाँ से चलकर, तुम हिमालय पर बैठना जहाँ से गंगा जी निकलती हैं। वहीं बैठ कर अपनी थकान मिटाना। गंगाजी की शिलाएं सदा कस्तूरी मृग के बैठने से महकती हैं। हे मेघ, जब देवदार के वृक्षों में रगड़ खाने से वन में आग लग जाये तब तुम तुरंत वर्षा करके उसे बुझा देना। शरभ जाति के हिरण यदि तुम्हे दुःख देने लगें तो उन पर ओले बरसा देना ताकि वे तितर-बितर हो जायें। यदि कोई अकारण ही सताता है तो उसे दण्ड देना ही चाहिये।

वहीं तुम्हे शिवजी के पद चिन्ह मिलेंगें जिन पर लोग पुष्प अर्पित करते हैं। तुम भी वहाँ झुक कर प्रदक्षिणा करना। जब वहाँ के बाँसों में से मधुर स्वर निकलते हैं तो वहाँ की किन्नरियाँ त्रिपुर विजय के गीत गाना प्रारम्भ कर देती हैं। उस समय यदि तुम भी मृदंग के समान शब्द करने लगोगे तो शिवजी के गीतों के संगीत के सभी अंश पूरे हो जायेँगे।     
  
हिमालय पर्वत के सारे रमणीय स्थल देख कर तुम क्रौंचरंध्र से पार हो जाना। जब क्रौंच पर्वत को विजय करने से  कार्तिकेय को अभिमान हो गया था, तब महर्षि परशुराम ने ऐसा तीर चलाया था के क्रौंच पर्वत में छिद्र हो गया था। वही क्रौंचरंध्र है और वर्षा ऋतु में पक्षी उसी छिद्र से मानसरोवर जाते हैं। वहीं से तुम भी उत्तर दिशा में चले जाना। इस छिद्र में तुम टेढ़े होकर इस प्रकार जाना  जैसे भगवान विष्णु बलि को छलने के लिए लम्बे और तिरछे होकर गए थे।  

तदन्तर तुम कैलाश पर्वत पहुँच जाओगे।  कैलाश पर्वत को एक समय रावण ने हिला डाला था। यह इतना चमकदार है कि देवताओं की पत्नियाँ इसमें अपना मुँह देखा  करती हैं। इसकी ऊंची-ऊंची चोटियाँ आकाश में फैली हैं। हे मेघ! तुम तो बिलकुल श्यामवर्ण हो और वह कैलाश पर्वत एकदम श्वेत। यह दृश्य कैसा सुन्दर लगेगा?  

वहाँ पार्वतीजी शिवजी के हाथ में हाथ डाले स्वछन्द विचरण कर रहीं होंगी। उस समय तुम उन पर वर्षा मत कर देना अपितु उनकी सहायता करना। कैलाश पर्वत पर अनेक अप्सरायें अपने रत्नजटित  कंगन तुम्हारे बदन में चुभा कर तुमसे पानी निकलवा लेंगीं। उस समय यदि वे तुम्हारा पीछा ना छोड़ें, तो तुम भयंकर गर्जना करके उन्हें डरा देना।  

कैलाश पर्वत पहुँच करपहले तो तुम  मानसरोवर का जल पीना, फिर ऐरावत हाथी का मन बहलाना, और फिर कल्प वृक्ष के पत्तों को धीरे-धीरे हिला देना। इस प्रकार नाना प्रकार से क्रीड़ा करते हुए तुम कैलाश पर्वत पर मनमाना भ्रमण करना।  

इसी कैलाश पर्वत की गोद में अलकापुरी बसी हुई  है। वहाँ से निकली गंगा जी की शुद्ध स्वच्छ धारा ऐसी लगती है मानो कामिनी के बदन से उसकी साड़ी सरक गयी हो। ऐसी सुन्दर अलकापुरी को देख कर तुम अवश्य पहचान जाओगे। ऊँचे-ऊँचे भवनों वाली इस अलकापुरी में वर्षा के दिनों में हर समय बादल छाये रहते हैं।

***


उत्तर मेघ

हे मेघ ! अलकापुरी की सर्वोच्च अट्टालिकायें सब तरह से तुम्हारे समान  हैं।तुम्हारे पास बिजली की चमक है तो उनमें आभूषणों से चमचमाती महिलायें हैं। तुम्हारे पास इन्द्रधनुष है तो उनके पास विभिन्न रंगों के चित्र हैं। यदि तुम गर्जना करते हो तो उनमें भी मृदंग का स्वर सुनायी पड़ता है। यदि तुम अंदर से नील वर्ण के हो तो उनके फर्श भी नीलम से जड़े हुए हैं और यदि तुम ऊँचाई पर हो तो अलकापुरी में भी गगनचुम्बी अट्टालिकायें  हैं।

यहाँ की कुलवधुएँ कमल के फूलों के आभूषण पहनती हैं और अपने केशों में कुन्द पुष्पों की वेणी गूँथती  हैं। वे मुँह पर फूलों का पराग मलती हैं और अपने कानों तथा माँग को भी पुष्पों से सजाती हैं।  

यहाँ पर तुम्हें अनेक प्रकार के बारहमासी फूल मिलेंगे जिन पर भँवरे मँडराते रहते हैं और जिन्हे हंसों की पंक्तियाँ घेरे रखती हैं। वहाँ हर समय मोर नाचते रहते हैं और सदा चाँदनी खिली रहती है। 

वहाँ के निवासी यक्ष सदा प्रसन्न रहते हैं। प्रणय के कलह की दाह ही वहाँ का कष्ट है। कभी किसी का वियोग नहीं होता। सब सदा यौवनावस्था में ही रहते हैं। वहाँ पर यक्ष स्त्रियों के साथ रमणीय स्थानों में बैठे कल्पवृक्ष का मधु पी रहे होंगें।  

वहाँ की कन्यायें इतनी सुन्दर हैं कि देवता भी उनको पाने के लिये लालायित रहते हैं। वे कल्पवृक्ष के नीचे बैठी खेला करती हैं।  

वहाँ के ऊँचे-ऊँचे भवनों में बादल घुस जाते हैं। वहाँ अथाह संपत्ति वाले कामी व्यक्ति अप्सराओं के साथ बैठे रहते हैं। वहाँ वैभ्राज नामक उपवन में किन्नर कुबेर का यशोगान कर रहे होंगे। वहाँ की कामिनियाँ जब अपने प्रेमियों के पास से लौटती हैं तो मार्ग में उनके श्रृंगार की वस्तुएँ बिखरी होती हैं। वहाँ विभिन्न रंगों के वस्त्र, मदिरा, पुष्प, कमल पत्र, विभिन्न प्रकार के आभूषण, लाक्षारस आदि सभी वस्तुएँ कल्पवृक्ष से प्राप्त हो जाती हैं।  

वहाँ के घोड़े तीव्र गति वाले होते हैं और वहाँ के बड़े-बड़े हाथी मद बरसाते रहते हैं। शिवजी भी वहीं पर रहते हैं। अतः डर के मारे कामदेव वहाँ निष्क्रिय हैं। 

वहीं कुबेर के महल के उत्तर में गोल सुन्दर फाटक वाला हमारा घर तुम्हें दिखायी पड़ेगा। उसके पास एक छोटा सा कल्पवृक्ष है जिसे मेरी पत्नी ने अपने पुत्र समान पाला है। उस पर अथाह फूल लगे होंगे।  घर के अंदर प्रवेश करने के बाद तुम्हें एक बाओली मिलेगी जिसकी सीढ़ियों पर नीलम जड़े हुए हैं। उसके पानी में स्वर्ण-कमल खिले होंगें। उसके जल में हंस क्रीड़ा कर रहे होंगें। उसके निकट ही एक हस्त-निर्मित पर्वत है जिसका  शिखर नील मणि से मंडित है। उसके चारों ओर कदली फल के वृक्ष लगे होंगें। देखो, मेरी पत्नी को वह पर्वत बहुत प्रिय है। उस हस्त-निर्मित पर्वत के निकट ही एक माधवी-मण्डप है जिसके पास कुरबक के वृक्ष हैं। लाल अशोक और मौलश्री के वृक्ष भी हैं। उन दोनों वृक्षों के नीचे एक मणि-जटित चौकी है जिसके ऊपर स्फटिक की शिला है। उस पर सोने की छड़ लगी हुई है जिस पर एक मोर नित्य संध्या-समय आकर बैठता है। मेरी पत्नी उसे तालियाँ बजा-बजा कर नचाया करती है।  

हे सज्जन , यदि तुम मेरे बताये सारे चिन्ह याद रखोगे तो तुम अवश्य ही मेरा घर पहचान लोगे। पर मेरे बिना मेरे घर की रौनक समाप्त हो गयी होगी और वहाँ बहुत सूना-सूना लग रहा होगा। 

देखो यदि तुम्हें मेरे घर के अंदर जाना हो तो तुम अपना छोटा रूप धारण करना और अपनी बिजली को जुगनू के समान छोटी और कम चमकीली बना कर मेरे घर में झाँकना। वहाँ दुबली-पतली, छोटे-छोटे दांतों और हरिणी के समान सुन्दर नेत्र वाली, आगे को झुक कर धीरे-धीरे चलने वाली जो कमनीय कामिनी तुम्हें दिखेगी वही मेरी पत्नी है। 

उसकी सुंदरता देख कर तुम्हें प्रतीत होगा मानो ब्रह्मा जी ने उसे स्वयं अपने हाथों से घड़ा है। बिछुड़ी हुई चक्रवाकी के समान वियोगिनी, अल्प-भाषिणी और पद्मिनी की भाँति सुन्दर मेरी उस पत्नी को देख कर तुम भली-भाँति समझ जाओगे कि वह मेरा दूसरा प्राण है।  विरह के दिन व्यतीत करते-करते वह पीतवर्ण  की और अति क्षीण हो गयी होगी। रोते-रोते उसकी आँखें सूज गयी होंगीं और अधर सूख गये होंगें। उसका मुख उदास हो गया होगा। 

देखो मेरे मित्र मेघ, वह या तो पूजा करते हुए मिलेगी या मेरा चित्र बना रही होगी, या फिर पिंजरे में बैठी अपनी मैना से बातें कर रही होगी।  नहीं तो वह वीणा लिए मेरे गीत गा रही होगी और विरह के दिन गिन रही होगी। हे मित्र, दिन तो वह ज्यों-त्यों किसी तरह बिता ही देती होगी पर रात बिताना उसके लिये बहुत कष्टकर होगा। इसलिए तुम अर्धरात्रि में झरोखे में बैठ कर उसे देखना। दिन में तो उसके पास उसकी सखियाँ होंगीं। अतः तुम रात्रि में जब उसकी सखियाँ सो जाएँ, तब खिड़की से उसके पास पहुँचना। वह बेचारी वहीं कहीं धरती पर करवट लिये पड़ी होगी, चारों ओर आँसू बिखेरे होंगे और उसके केश छितरायें होंगें।  वह यह सोच कर नींद को बुलाती होगी कि मैं उसे स्वप्न में ही दिख जाऊँ। बिछड़ने के दिन ही उसने अपने जूड़े की माला खोल दी थी और एक इकहरी सी चोटी बाँध ली थी। उसकी ऐसी दशा देख कर तुम भी रो पड़ोगे।   

मेरे भाई, यह न समझना कि उस पतिव्रता का पति होने के कारण मैं इतना बोल रहा हूँ  परन्तु यह तुम स्वयं ही देख लेना। तुम्हें मिलने के पूर्व उसकी बाईं आंख और बाईं जंघा, जिसे मैं स्वयम अपने हाथों से  दबाया करता थाफड़क उठेगी।  

हे मित्र, यदि वह सो गयी हो तो उसे जगाना मत क्योंकि वह स्वप्न में मुझे ही देख रही होगी। जब वह जागे, तब उससे धीरे-धीरे बात करना नहीं तो वह डर जायेगी। उसे बता देना कि देवी मैं तुम्हारे पति का सन्देश लेकर आया हूँ। यह सुन कर मेरी प्रिया तुम्हारा सन्देश बहुत ध्यान से कान लगा कर सुनेगी क्योंकि पति का सन्देश पाकर स्त्रियों को बहुत आनन्द का अनुभव होता है।

हे मेघ, तुम उससे कहना कि तुम्हारा साथी रामगिरि आश्रम में सकुशल है और तुम्हारी कुशलता जानना चाहता है।  उसका मार्ग तो ब्रह्मा ने रोक दिया है परन्तु वह भी तुम्हारी ही भांति तुम्हारे वियोग में दुखी  है। उसने तुम्हारे लिये यह सन्देश भेजा है:

"हे प्रिये! मैं यहाँ बैठा हुआ पियंगु की लता में तुम्हारा बदन, हरिण की आँखों में तुम्हारी आँखें, चन्द्रमा में तुम्हारा मुख, मोर-पंखों में तुम्हारे केश और नदी की लहरों में तुम्हारी चंचल भौंहें देखता हूँ। जब मैं पत्थर की शिला पर गेरू से तुम्हारी रूठी हुई छवि और स्वयं को तुम्हें मनाने के लिए तुम्हारे पैरों में पड़ा चित्र बनाता हूँ तो मैं इतना अधीर हो जाता हूँ कि मैं भली-भाँति देख भी नहीं पाता हूँ। हे देवी, एक तो मैं स्वयं तुम्हारे वियोग में दुखी हूँ, दूसरे यह कामदेव मुझे बहुत दुखी करता है।  इस वर्षा ऋतु में, मैं तुम्हारे बिना यह दिन कैसे काटूँ? वनदेवता भी मेरी दयनीय दशा पर अश्रुपात करते हैं। हे चंचल नेत्रों वाली, मैं यही मनाता हूँ कि दिन और रात छोटे हो जाएँ। हे कल्याणी, मैं किसी प्रकार अपने मन को धैर्य देता हूँ। तुम भी धीरज रखना क्योंकि दु:ख-सुख तो सभी आनी-जानी वस्तु है। आगामी देव-उठनी एकादशी को मेरा श्राप समाप्त हो जायेगा। फिर शरद ऋतु में हम अपनी सारी  इच्छायें पूरी करेंगें। हे सांवली आँखोंवाली, इन सब बातों से तुम समझ लेना कि मैं सकुशल हूँ। हे प्यारी, तुम लोगों के इस बहकावे में मत आना कि विरह से प्रेम कम हो जाता है।  वास्तव में विरह में तो प्रेम बढ़ जाता है। "  

हे मेघ ! देखो प्रथम वियोग से दुखी अपनी भाभी को धैर्य बँधा कर और उनसे कुशल समाचार प्राप्त करके तुम कैलाश पर्वत से शीघ्र ही मेरे पास लौट आना और यहाँ आकर मेरे प्राणों की रक्षा करना। अब बताओ भाई , तुमने मेरा यह कार्य करने का निश्चय तो कर ही लिया होगा।  मैं जानता हूँ कि तुम्हें जो कार्य कह दिया जाता है उसे तुम अवश्य ही पूरा करते हो।  हे मित्र, पहले मेरी यह अनुचित प्रार्थना स्वीकार करना।  तत्पश्चात ही तुम अपना बरसाती रूप धारण कर यत्र-तत्र  भ्रमण करना। मैं नहीं चाहता कि  बिजली से तुम्हारा एक क्षण का भी वियोग हो क्योंकि मैं स्वयँ भुक्तभोगी हूँ।

यक्ष की यह बातें सुनकर मेघ रामगिरि पर्वत से चल दिया। पहाड़, पहाड़ियों, नदियों पर से होता हुआ वह कुबेर की राजधानी अलकापुरी पहुँच गया।  यक्ष की बताई पहचान से वहाँ उसने  स्वर्ण के समान देदीप्यमान भवन को तुरंत पहचान लिया जिसकी शोभा यक्ष के वहाँ न रहने से फीकी पड़ गयी थी। उसने देखा कि यक्ष की पत्नी धरती पर पड़ी है।  उस विरही स्त्री के प्राणों की रक्षा हेतु मेघ ने उसे यक्ष का पूरा सन्देश सुना दिया। यक्ष-पत्नी भी अपने पति का समाचार पाकर प्रसन्न हो गयी।  

यक्षराज  कुबेर ने जब सुना कि यक्ष ने अपना ह्रदय-विदारक कुशल सन्देश अपनी पत्नी के पास मेघ द्वारा भेजा है, तो उसे बहुत दया आयी और उसने अपना श्राप वापस ले लिया और उन दोनों पति-पत्नी को पुनः मिला दिया। इस मिलन से उनके सारे दुःख दूर हो गये और वे बहुत प्रसन्न हो गये। कुबेर ने उन्हें ऐसे सुख प्राप्त करने का प्रबंध कर दिया कि उन्हें भविष्य में फिर कभी दुःख न मिले। 


*****















Tuesday, 21 October 2014

64. कहाँ गये वो लोग?

                कहाँ गये वो लोग?                                   

दीप्ति शर्मा एक बड़े राष्ट्रीयकृत बैंक में अफसर हैं और बड़ी कम्पनियों को ऋण देने का काम  संभालती हैं। पांच करोड़ रुपये का एक ऋण प्रस्ताव कुछ  पेचीदा था जो उसने अपनी भरपूर क्षमता अनुसार बैलेंस-शीट का विधिवत विस्तारपूर्वक विश्लेषण करके बनाया और अपने उच्चाधिकारी को अपनी संस्तुतियों के साथ भेज दिया। 
अगले दिन अधिकारी के निजी सचिव का फ़ोन आया, "मैडम, साहब ने लोन का नोट तो  पास कर दिया है परन्तु वह नोट उनके ही  पास है।  साहब कम्पनी के उच्चाधिकारियों का फ़ोन नंबर मांग रहे हैं। आपके पास है क्या?"
"हाँ, है न।  नोट कीजिये," यह कहते कहते उसने सारे फ़ोन नंबर लिखा दिए। दिल में एक संतोष था कि उसका बनाया हुआ पहला बड़ा प्रोपोज़ल बिना किसी टिप्पणियों के पास हो गया था।  
अभी वो घर जा ही रही थी कि बड़े साहब का चपरासी नोट ले आया जिस पर साफ़-साफ़ लिखा था "एप्रूव्ड" शाम हो चली थी, नोट अलमारी में रखा और वो घर चली गयी। 
सुबह दफ्तर आयी तो आते ही बड़े साहब के निजी सचिव का पुनः फ़ोन आ गया।  
"मैडम, वो नोट जो साहब ने कल एप्रूव किया था, उसे वापस  मँगा रहे हैं।"
उसने नोट उठा कर वैसे ही चपरासी को पकड़ा दिया। 


पंद्रह मिनट में नोट वापस उसकी मेज़ पर था।  उत्सुकतावश जब उसने नोट को देखा तो दंग रह गयी। जहाँ "एप्रूव्ड" लिखा था, वहां अब लिखा हुआ था "नॉट एप्रूव्ड";  बड़े साहब ने अपने हाथ से "एप्रूव्ड" के आगे "नॉट" लगा दिया था। उसकी आँखें खुली की खुली रह गयीं। यह क्या हुआ? रातों-रात ऐसा क्या हो गया कि पास किया-कराया नोट रिजेक्ट कर दिया गया। उसने भगवान का शुक्र मनाया कि उसने कम्पनी को यह खुश-खबरी अभी नहीं दी थी।

दो दिन और निकल गये और उसने अनमने दिल से कम्पनी को भेजने के लिए रिजेक्शन लैटर भी तैयार कर लिया। दिल भारी था कि सारी मेहनत बेकार गयी। तभी बड़े साहब का चपरासी आता हुआ दिखा और साथ ही बजी इण्टरकौम की घंटी।  साहब का निजी सचिव था, "मैडम, साहब ने नोट वापस मंगाया है। ज़रा भेज देना।"


आधे घंटे में नोट फिर वापस आ गया।  इस बार टिप्पणी देखी तो उसका सिर ही घूम गया।  "अरे! ये क्या हुआ?" 
अब नोटिंग थी "नोट एप्रूव्ड।" बड़े साहब ने नॉट के आगे बस एक e और लगा दिया था। अंग्रेजी भाषा का यह अनहोना चमत्कार देख कर वह दंग रह गयी।  क्या ऐसा भी हो सकता है।  बड़े साहब की तो कुछ और ही छवि उसके दिमाग में थी।  पर जो कुछ हुआ वह तो सामने ही था और किसी मूर्ख को भी  समझ में आ सकता था।  नोट को दोनों हाथों से पकड़ कर वह बैठ गयी।  दिल और दिमाग के बीच संघर्ष चालू हो गया था।   साहब की शिकायत करनी होगी ; परन्तु क्या शिकायत करेगी।  उसने जो संस्तुति की थी वही तो अनुमोदित कर दी गयी थी।  बाकी बातों  का तो न कोई सबूत था और ना ही कोई गवाह।  क्या हुआ होगा? कितना लेन-देन हुआ होगा, क्या पता।  सोच-सोच कर उसका दम घुटने लगा।  उसके अपने मूल्य इतने ऊंचे थे की चुप रहना भी मुश्किल लग रहा था।  
बैठे-बैठे दिमाग अतीत की और दौड़ चला। 
***
रविवार की सुबह थी और वो आगामी परीक्षा की तय्यारी में तल्लीन थी। बाहर घंटी की आवाज़ सुनाई पड़ी तो ध्यान बंट गया। 
"हे भगवान! अब कौन आ गया? पढ़ाई छोड़ कर उठना पड़ेगा।"   वो यह सोच ही रही थी कि दरवाज़ा खुलने की आवाज़ आयी।  संभवतः पापा दरवाज़े के पास ही खड़े थे।  कोई जानने वाला ही रहा होगा।  दरवाज़ा खुलते ही दुआ-सलाम की आवाजें सुनाई पड़ी।  उसने चैन की सांस ली और अपना ध्यान फिर से कार्ल मार्क्स के चैप्टर पर लगा लिया था ।   

पांच मिनट भी नहीं गुज़रे थे कि चपरासी अन्दर आया, "बिटिया, साहब कह रहे हैं कि सबके लिए चाय बना दो।" 
"आप गैस पर तीन कप पानी रख दीजिये; मैं अभी आती हूँ।"  बीच में पढाई ना छोड़ने का शायद यह एक अधूरा सा  प्रयास था।   

बैठक में चल रहा वार्तालाप कुछ सुनाई नहीं दे रहा था।  हाँ, यह ज़रूर समझ आ रहा था  कि आगंतुक बहुत सहमे-सहमे से बोल रहे थे।  शायद पापा के ओहदे की वजह से या फिर पता नहीं क्यों।
"बिटिया पानी उबल रहा है," चपरासी ने फिर से याद दिलाया तो उसे  उठना ही पड़ा था।  जैसे ही वह  दरवाज़े की ओर बढ़ी तो लगा कि ड्राइंग रूम में कुछ खलबली सी मची है।  पापा की आवाज़ एकदम ऊंची सुन कर वह एकाएक रुक गयी थी।  और फिर एक ज़ोरदार धड़ाम की आवाज़।  लगा किसी ने कोई बड़ा बक्सा उठा कर फेंका है। भाग कर खिड़की से बाहर झाँका तो देखा एक काला ब्रीफकेस लॉन में खुला पड़ा था  और सौ-सौ के नोटों की गड्डियाँ हरी घास पर बिखरी हुईं  थी ।  पापा की रोबीली आवाज़ हवा में गूँज रही, " निकल जाओ मेरे घर से।  तुम्हारी हिम्मत भी कैसे हुई सा… क… ह………अगली बार ऐसा किया तो सीधे जेल भेज दूंगा।"  सूट-बूट धारी दो व्यक्ति तेज़ी से नोट उठा कर ब्रीफकेस में भर रहे थे और पापा ने भड़ाक से दरवाज़ा बंद कर दिया था । वो भाग कर अपनी कुर्सी पर वापस चली गयी थी और किताबों में अपना सर घुसा लिया था मानो कुछ हुआ ही न हो।  


मम्मी जो शायद नहाने गयी हुईं थी अब बाहर आ गयी थी।  "क्या हुआ? कौन आया था?"  पापा जो अब अन्दर आ गए थे  बोले, " पता नहीं कहाँ से आ जाते हैं ये लोग सुबह-सुबह धरम भ्रष्ट करने के लिए। पांच लाख रुपये लेकर आये थे। साले क्लोरोमाईसीटीन के कैप्सूल में हल्दी भरके बेचते है और लोगों की जान से खेलते हैं।  पिछले हफ्ते इनकी फैक्ट्री पर मेरे विभाग वालों ने  छापा  मारा  था।  मुझे रिश्वत देने आये थे।  रिश्वत देने की इन्होने सोची भी कैसे?"
"अच्छा किया।  ऐसे लोगों के साथ ऐसे ही करना चाहिए। "  मम्मी का निष्काम उत्तर था। 

" मैडम, अब चाय पिलवाइए।" 
***
ऐसे लोग आज क्यों नहीं हैं? कहाँ गए वो लोग?  भ्रष्टाचार का बोलबाला क्यों है? सोच-सोच कर उसका दिमाग गरम हो रहा था पर एक विवशता जकड़ती जा रही थी।  क्या करे ? कुछ तो करना ही होगा ऐसे भ्रष्टाचारी अफसर के खिलाफ़।  


"मैडम चाय लाऊं क्या?" चपरासी पूछ रहा था।
"हाँ।  एक कप ब्लैक टी लाना।" काले कारनामों को देख कर चाय भी काली ही पीनी होगी।  यह सोचते हुए उसने एक कागज़ उठाया और विजिलेंस डिपार्टमेंट को केस का पूरा  ब्यौरा लिखना शुरू कर दिया और  शाम होते न होते उसने वह पत्र कोरपोरेट कार्यालय को भेज दिया। व्हिसल-ब्लोअर का कार्य किसी को तो करना ही होगा।  
 अभी एक सप्ताह भी ना बीता था कि उसके तबादले का आर्डर आ गया, साथ ही निर्देश कि उसे उसी दिन पदमुक्त कर दिया जाये। बड़े साहब ने बुला कर उसे बस इतना ही कहा, "अब गाँव की इस दूरदराज शाखा में जाओ और पूरी ईमानदारी से काम करो और खुश रहो।"  उनकी बातों में छिपा हुआ व्यंग साफ़ नज़र आ रहा था।  
"गलत माहौल में काम करने की अपेक्षा, मैं गाँव में पोस्टिंग पसंद करूंगी।"  यह कहते हुए वो साहब के कमरे से जब बाहर निकली तो साहब के निजी-सचिव ने  धीरे से फुसफुसा कर कहा, "क्या ज़रुरत थी मैडम बिना-बात पंगा लेने की? ये सब तो नौकरी में चलता ही है। "
***
इस बात को लगभग एक वर्ष गुज़र गया।  कहीं से उड़ती-उड़ती सी कुछ खबर सुनाई पडी थी कि बड़े साहब के विरूद्ध शायद विजिलेंस की इन्क्वायरी चालू हो गयी है।  केंद्रीय इन्वेषण ब्यूरो के छापे भी पड़े हैं।  अपनी आमदनी से कहीं ज्यादा उनके फिक्स डिपोजिट हैं।  कोई कह रहा था कि उनकी पत्नी के नाम पर कई मकान भी हैं।  गाँव में बैठे सब खबरें पूरी तरह मिल भी नहीं पाती हैं।  इसी तरह लगभग एक साल से ज्यादा बीत गया।   
अचानक मुख्यालय से आयी डाक में अपने नाम का लिफाफा देख वह चोंक गयी।  "भला क्या होगा?" सोचते हुए उसने लिफाफा खोल तो पता लगा के आगामी शनिवार को बैंक के चेयरमैन साहब मुख्यालय में पधार रहे हैं।  उनके सम्मान में एक बड़ा फंक्शन है जिसमे शरीक होने के लिए उसे भी बुलाया गया है।  पास की शाखा वाले ने बताया कि मंडल के सभी अधिकारियों  को बुलाया गया है।

शनिवार की शाम होते न होते वह इंगित स्थान पर पहुँच गयी।  दूर से आयी थी और  कुछ देर भी हो गयी  थी।  फंक्शन चालू हो गया था। बहुत बड़ा जलसा था।  आमंत्रित लोगों से हाल खचाखच भरा हुआ था।  बैंक के सब आला अधिकारी सूट बूट पहने और टाई लगाये इधर से उधर व्यस्त घूम रहे थे।  हर दो सेकण्ड में कैमरे की फ़्लैश चमक रही थी।
आज बैंक के सालाना पुरूस्कार चेयरमैन  साहब के हाथों वितरित हो रहे थे। एक के बाद एक बड़ी ट्रोफीज़ बांटी जा रही थी, कोई सर्वोत्तम  ग्राहक सेवा के लिए तो कोई  बैंक में बिजनेस लाने के लिए। अचानक अपना नाम सुन  कर  उसे झटका सा लगा और वह अपने कानों पर यकीन नहीं कर पाई ।
  
" ….  और अंत में सबसे महत्व पूर्ण ट्रोफी जाती है  सुश्री दीप्ति शर्मा को।  इन्होंने जो कार्य किया वो कोई महिला तो क्या कोई साहसी पुरुष भी नहीं कर सकता ।  अपने वरिष्ठ अधिकारी के काले-कारनामों का भांडा फोड़ने के लिए बहुत साहस की आवश्यकता होती है और वो इस महिला अधिकारी ने  कर दिखाया। इसलिए मैं चेयरमैन साहब से दरख्वास्त करूंगा कि इस वर्ष का "व्हिसल ब्लोअर अवार्ड"  सुश्री दीप्ति शर्मा को प्रदान करें।  दीप्ति जी स्टेज पर आइये।  आप बैंक के अफसरों के लिए एक महत्वपूर्ण  रोल मॉडल हैं।  … …"

स्टेज पर घोषणा चल रही थी और दीप्ति हॉल  की आखिरी पंक्ति से उठ मन ही मन अपने माता -पिता को प्रणाम कर सतर कंधे और सधे क़दमों से स्टेज की ओर चली तो पूरा हाल तालियों की गडगडाहट से गूँज उठा ।


*****
  (सत्य घटनाओं से प्रेरित)